Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोजें:
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

उत्तर रेलवे मुख्यालय

डिविजन्स

यात्री और माल यातायात सेवाएँ

समाचार एवं भर्ती सूचनाएँ

निविदाएं

हमसे संपर्क करें

महत्वपूर्ण जन सूचना
G20 के लिए ट्रेन्स हैंडिलिंग प्लान
बेडरोल सेवा वाली रेलगाड़ियों की सूची
प्रेस विज्ञप्ति
भर्ती सूचना
भर्ती परिणाम
रेलवे भर्ती कक्ष की वेबसाइट
लोकप्रिय फिल्म शूटिंग लोकेशन्स
ट्रेन एक्सिडेंट इंकवारी रिपोर्ट्स
साहसिक एवं रोमांचक कार्यक्रम/गतिविधियाँ
ट्रेन एक्सिडेंट विषयक पब्लिक इन्फॉर्मेशन
Rail Kaushal Vikas Yojana
Amritsar - Basic Training Centre, Mechanical Workshop
Ghaziabad - Carriage & Wagon Training Centre
Jagadhari - Basic Training Centre, Carriage & Wagon Workshop
Lucknow - Supervisors Training Centre, Charbagh
 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
13-06-2024
उत्तर रेलवे ने स्क्रैप बिक्री में नया रिकॉर्ड बनाया वित्त वर्ष 2024-25 में 11.06.2024 तक 101.11 करोड़ रुपये अर्जित किए


यह भारतीय रेल की सभी क्षेत्रीय रैलों /पीएसयू में सर्वाधिक है 
उत्‍तर रेलवे के महाप्रबंधक, श्री शोभन चौधुरी ने बताया कि उत्‍तर रेलवे ने स्‍क्रैप बिक्री में एक नया रिकॉर्ड बनाया है । 11.06.2024 को नीलामी बंद होने तक, उत्तर रेलवे चालू वित्त वर्ष 2024-25 में 101.11 करोड़ रुपये के स्क्रैप का निपटान करके भारतीय रेलवे की सभी क्षेत्रीय रेलवे और उत्पादन इकाइयों के बीच स्क्रैप बिक्री में नंबर 1 पर है। उत्तर रेलवे चालू वित्त वर्ष में 100 करोड़ रुपये की स्क्रैप बिक्री में मील का पत्थर हासिल करने वाला पहला क्षेत्रीय रेलवे भी है। इस प्रक्रिया में, उत्तर रेलवे ने बिक्री हासिल करने में सबसे कम समय में 71 नीलामियों में 528 लॉट्स बेचे हैं।

  स्‍क्रैप का निपटान एक महत्‍वपूर्ण कार्य है । स्‍क्रैप से राजस्‍व अर्जित किये जाने के साथ-साथ, यह रेल परिसरों को साफ-सुथरा बनाए रखने में भी मदद करता है । रेल पटरियों के टुकड़े, स्‍लीपर, टाई-बार इत्‍यादि स्‍क्रैप को एकत्रित कर इसकी बिक्री से संरक्षा बढ़ाने में मदद मिलती है । 

 उत्‍तर रेलवे ने स्‍टाफ क्‍वाटरों, केबिनों, शैड़ों, वाटर टैंकों इत्यादि परित्‍यक्‍त ढांचों के निपटान के कार्य को मिशन मोड में शुरू किया है । इससे न केवल राजस्‍व अर्जन में मदद मिली है बल्‍कि बहुमूल्य स्‍थान की उपलब्‍धता भी सुनिश्‍चित हुई है । इससे शरारती तत्‍वों द्वारा पुराने ढांचों के दुरुपयोग की संभावना भी समाप्‍त होती है ।
 इनका त्‍वरित निपटान सदैव ही रेलवे की प्राथमिकता सूची में रहा  है तथा इसकी निगरानी भी उच्‍च स्‍तर पर की जाती है । उत्‍तर रेलवे पर बड़ी संख्‍या में एकत्रित हो गए स्‍क्रैप पीएससी स्‍लीपरों का निपटान भी त्वरित रूप  से किया जा रहा है ताकि राजस्‍व अर्जित करने के साथ-साथ बहुमूल्य भूमि को रेल गतिविधियों के लिए खाली रखा जा सके । 


  उत्‍तर रेलवे जीरो स्‍क्रैप स्‍टेटस हासिल करने और इस वित्‍तीय वर्ष में सर्वाधिक स्‍क्रैप बिक्री रिकॉर्ड स्‍थापित करने के लिए मिशन मोड में कार्य करते हुए अपने परिसरों को स्‍वच्‍छ बनाने के लिए प्रतिबद्ध है । 
------------




  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.