Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

उत्तर रेलवे मुख्यालय

डिविजन्स

यात्री और माल यातायात सेवाएँ

समाचार एवं भर्ती सूचनाएँ

निविदाएं

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
मुरादाबाद डिवीजन

परिचय
                                          


     
          मुरादाबाद उत्तर रेलवे के एक महत्वपूर्ण मंडल का मुख्यालय है। यह एक महत्वपूर्ण रेलवे जंक्शन है और हावड़ा-अमृतसर तथा दिल्ली-गुवाहाटी मुख्य लाइनों पर स्थित है।
 मुरादाबाद मंडल को 1925 में ईस्ट इंडियन रेलवे के एक हिस्से के रूप में बनाया गया था। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड राज्यों में फैले, इसका कुल रूट किलोमीटर 1402.15 किलोमीटर है और 2701.72 किलोमीटर का ट्रैक किलोमीटर, जिस पर 140 जोड़ी मेल/एक्सप्रेस और 60 जोड़ी पैसेंजर ट्रेनें चलती हैं यहाँ 150 ब्लॉक स्टेशनों सहित 207 स्टेशन हैं। मंडल के स्टेशनों से प्रतिदिन लगभग दो लाख यात्रियों की बुकिंग होती है।
       यह मंडल दोनों राज्यों के महत्वपूर्ण धार्मिक और औद्योगिक केंद्रों का प्रबंधन करता  है। देश के महत्वपूर्ण धार्मिक तीर्थस्थल जैसे हरिद्वार, बद्रीनाथ, केदारनाथ, ऋषिकेश, गढ़मुक्तेश्वर, राजघाट, नैमिषारण्य आदि मंडल द्वारा सेवित क्षेत्र में स्थित हैं।
 तीन प्रमुख उर्वरक संयंत्र, इफको/आंवला, टाटा केमिकल्स लिमिटेड/बबराला और कृभको श्याम उर्वरक/शाहजहांपुर मंडल में स्थित हैं। इन संयंत्रों की प्रमुख परिवहन जरूरतों को मंडल द्वारा पूरा किया जाता है।
इसी प्रकार, मंडल में कई महत्वपूर्ण चीनी मिलें स्थित हैं। लक्सर, स्योहारा, धामपुर में चीनी मिलों की अपनी स्वतंत्र साइडिंग है। अन्य संयंत्र अपने उत्पाद को हरदोई के माल गोदाम से लोड करते हैं।
उत्तर प्रदेश  का  सबसे बड़ा अनाज बाजार, अर्थात शाहजहांपुर भी बड़ी मात्रा में खाद्यान्न, विशेष रूप से गेहूं को दक्षिणी और उत्तर पूर्वी राज्यों में भेजता है।
 उपरोक्त के अलावा, मंडल  कई गुड्स हैंडलिंग टर्मिनल उपलब्ध  करता है जहां बड़ी मात्रा में उर्वरक, सीमेंट, कोयला, खाद्यान्न और अन्य विविध वस्तुओं को संभाला जाता है।
        प्रमुख तेल कंपनियां भी अपने उत्पादों को आंवला, नजीबाबाद और बंथरा में समर्पित साइडिंग पर उतारती हैं। 250 जीई लोकोमोटिव के लिए एक डीजल लोको शेड ने 2018 से काम करना शुरू कर दिया है। अब तक 47 लोकोमोटिव प्राप्त हो चुके हैं।

        माल ढुलाई के दृष्टिकोण से, यह  मंडल  उत्तरी राज्यों से उत्तर पूर्वी राज्यों में भेजे गये सभी खाद्यान्न यातायात के लिए एक प्रमुख ट्रंक मार्ग के रूप में कार्य करता है। यह देश के उत्तर पूर्वी और पूर्वी क्षेत्रों से उत्तरी राज्यों में कोयला और इस्पात जैसे महत्वपूर्ण कच्चे माल के परिवहन के लिए एक महत्वपूर्ण मार्ग के रूप में भी कार्य करता है।

2021-22 की मुख्य विशेषताएं

सामान्य 

  • मुरादाबाद मंडल ने 12 और 14 अप्रैल को हरिद्वार में सोमवती अमावस्या और बैसाखी पर महाकुंभ 20-21 के शाही स्नान की भीड़ को सफलतापूर्वक नियंत्रित किया। सभी कुंभ स्थानों पर यात्रियों और कर्मचारियों की सुविधा के लिए सभी प्रबंध किए गए थे।
  • मंडल ने मई’21 में 19 ऑक्सीजन एक्सप्रेस को 1286.04 टन ऑक्सीजन के साथ सफलतापूर्वक प्राप्त और अनलोड किया। 14 ऑक्सीजन एक्सप्रेस बरेली में, 04 हर्रावाला में और 01 मुरादाबाद में प्राप्त हुई।
  • मुरादाबाद के संभागीय अस्पताल में एक पीएसए ऑक्सीजन जेनरेटर प्लांट (250 लीटर) स्थापित और चालू किया गया है। यह उत्तर रेलवे का पहला स्थापित ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र है।
  • केंद्रीकृत ऑक्सीजन पाइपलाइन: कुल 119 बिस्तरों में से कुल 31 बिस्तर केंद्रीय ऑक्सीजन पाइपलाइन से सुसज्जित हैं।
  • ट्रेनों में यात्रा करने वाली महिला यात्रियों को उनकी यात्रा के दौरान सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से मुरादाबाद मंडल द्वारा 'मेरी सहेली' अभियान शुरू किया गया है। इस अभियान के तहत महिला उप निरीक्षकों (नोडल अधिकारी के रूप में भी नियुक्त) और आरपीएफ की महिला कांस्टेबल की एक टीम महिला कोचों सहित सभी कोचों में प्रवेश करती है और महिला यात्रियों की पहचान करती है, जो ट्रेन के प्रस्थान से पहले अकेले यात्रा कर रही हैं। इन यात्रियों को यात्रा के दौरान बरती जाने वाली सभी सावधानियों के बारे में बताया जाता है और सहायता संख्या 182 के बारे में बताया जाता है।  किसी भी समस्या की स्थिति में संपर्क करने के लिए आरपीएफ का  संपर्क नंबर भी साझा किया जाता है ।
  • मुरादाबाद मंडल सार्वजनिक-निजी भागीदारी मॉडल के माध्यम से माल शेड विकास के समझौते को अंतिम रूप देने वाला उत्तर रेलवे का पहला मंडल बन गया है। गढ़मुक्तेश्वर माल गोदाम के लिए श्री आदिनाथ ट्रेडिंग कंपनी-मेरठ के साथ  का करार 05 वर्ष के लिए किया गया है ।
  • पीपीपी मॉडल नीति के तहत विकास के लिए बरेली कैंट माल गोदाम के लिए निविदा आमंत्रित करने की सूचना(एनआईटी) भी 11.11.2021 को प्रकाशित की गयी । निविदा खोलने की तिथि - 22.12.2021 
  • मुरादाबाद मंडल ने एक और उपलब्धि हासिल करते हुए एन.आई.एन.एफ.आर.आई.एस के तहत देहरादून, हरिद्वार, मुरादाबाद और बरेली रेलवे स्टेशनों के पार्सल गोदाम  में सामान/पार्सल पैकेज की पैकिंग का ठेका दिया है। इस अनुबंध के माध्यम से, मंडल ने रेलवे और उसके ग्राहकों के बीच की खाई को पाट दिया है, उन्हें दो पहिया वाहनों, पार्सल / सामान पैकेजों की पैकिंग के लिए सेवाएं और सुविधा प्रदान की है। यह रेलवे स्टेशनों पर किसी भी अनधिकृत सेवाओं की संभावना को भी समाप्त कर देगा। इस परियोजना से एक वर्ष की अनुबंध अवधि के लिए 3.25 लाख रुपये का राजस्व भी प्राप्त होगा।
  • 09 अगस्त 2021 को नैमिषारण्य और कांठ में यूटीएस सह पीआरएस को चालू किया गया।
  • यात्रियों की सुविधा के लिए 05 स्टेशनों (योग नगरी ऋषिकेश , ऋषिकेश , गढ़मुक्तेश्वर, हरदोई , शाहजहांपुर ) में पीआरएस के अलावा यूटीएस सह पीआरएस काउंटर हैं।
  • संसदीय क्षेत्रों में रेल सुविधाओं के विस्तार पर सुझावों को प्राप्त करने और उन पर चर्चा करने के उद्देश्य से दिनांक 16.11.21 को माननीय सांसदों के साथ मुरादाबाद में बैठक सफलतापूर्वक आयोजित की गई थी।
  • मंडल ने हरिद्वार और योग नगरी ऋषिकेश में एलईडी स्क्रीन और मोबाइल चार्जिंग सुविधा सहित स्टैंडी उपलब्ध करायी है जिससे 1,40,000/- रुपये वार्षिक राजस्व के रूप में प्राप्त होंगे।
  • मंडल ने 2/3 व्हीलर रेंटल सर्विस के साथ ईवी चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने के लिए एलओए जारी किया है। इस परियोजना से प्रति वर्ष ₹ 6.00 लाख का राजस्व प्राप्त होगा। यह सुविधा हरिद्वार , रूड़की, मुरादाबाद और बरेली में प्रदान की जाएगी।
  • पिछले वर्ष में कुल 2143 कर्मचारियों को पदोन्नति दी गई और कुल 707 कर्मचारियों को एमएसीपी प्रदान किया गया। अप्रैल से फरवरी 2022 के बीच 1028 कर्मचारियों को पदोन्नत किया गया और 109 कर्मचारियों को एमएसीपी प्रदान किया गया।
  • एचआरएमएस हेल्पडेस्क - एचआरएमएस से संबंधित शिकायतों के त्वरित निपटान के लिए एक समर्पित व्हाट्सएप ग्रुप शुरू किया गया है।
  • कर्मचारी सेवा पंजिका प्रदर्शन शिविर यहां आयोजित किए गए: - देहरादून, बरेली , आवला, रोज़ा, शाहजहांपुर , हापुड़  हरिद्वार, मुरादाबाद 
  • एकता दिवस की शपथ 31.10.2021 को ली गई।
  • सतर्कता जागरूकता सप्ताह के लिए 02.11.21 को डीआरएम कार्यालय में कार्यशाला का आयोजन किया गया ।
  • "कार्मिक" शाखा द्वारा  "एचआरएमएस" पर एक पुस्तिका जारी की गयी |


सुरक्षा प्रदर्शन:




  • पिछले वर्ष की समान अवधि में 09 की तुलना में वर्तमान वर्ष में दुर्घटनाओं की संख्या घटकर 02 हो गई। दुर्घटना प्रति मिलियन ट्रेन किमी भी पिछले वर्ष .33 की तुलना में .13 तक कम हो गई। मंडल में अब तक कोई भी रेल दुर्घटना नहीं हुई है।
  • ट्रैक कार्य (कोष्ठक में आंकड़े पिछले वर्ष के हैं)
  • सी . टी. आर.- 153.88 किमी (262.30 किमी)
  • टी.आर.आर- 231.41 किमी (379.78 किमी)
  • टी.एफ.आर- 53.68 किमी (66.68 किमी)
  • टी.टी.आर- 97 (102)
  • फायर अलार्म सिस्टम का प्रावधान- 28 स्टेशन (सिग्नलिंग रूम)
  • वर्ष के दौरान 38 विद्युत लिफ्टिंग बैरियर का प्रावधान  किया गया ।
  • एलएचएस/विलय द्वारा एलसी गेट्स का उन्मूलन- 11Nos
  • बहु अनुशासनिक विभाग द्वारा 12 बड़े यार्ड्स  का अंकेक्षण (ऑडिट) किया गया |
  • अंतरराष्ट्रीय समपार जागरूकता सप्ताह  - 04 से 10 जून'21 187 समपारों को कवर किया गया और 5600 सड़क उपयोगकर्ताओं को परामर्श दिया गया और 7450 पैम्फलेट और 11500 हैंडबिल वितरित किए गए। उपरोक्त के अलावा 05 सुरक्षा सेमिनार भी आयोजित किए गए जिसमें 210 कर्मचारियों को परामर्श दिया गया। 
  • गतिशीलता में सुधार के लिए आधारभूत संरचना/यातायात सुविधा कार्य: 22.04.2021 को पिलखुआ -डासना के बीच नए क्रॉसिंग स्टेशन लाखन (एलकेएन) का उद्घाटन
  • रोज़ा -सीतापुर सिटी सेक्शन पर नेरी -जहानीखेडा और जहानीखेडा -जंगबहादुर गंज (24 किलोमीटर) स्टेशनों के बीच दोहरी लाइन का उद्घाटन |
  • दिनांक 07.01.2022 को रोज़ा - सीतापुर सिटी सेक्शन में  (रोज़ा यार्ड रीमॉडेलिंग के बिना) रोज़ा - बरतारा के बीच दोहरी लाइन का उद्घाटन (6.5 किलोमीटर)। 
  • लक्सर -हरिद्वार  के बीच यार्ड रीमॉडेलिंग और दोहरीकरण |
  • रेलवे विद्युतीकरण 
  • क) पिलखुवा-डासना के बीच जेपीएलएस साइडिंग में ओएचई का प्रावधान [2 लाइन (150 मीटर +150 मीटर)] 
  • ख) पिलखुवा-डासना के बीच एटीएलपी साइडिंग में ओएचई का प्रावधान [1 लाइन (130 मीटर)] 
  • ग) कॉनकॉर/मुरादाबाद में इलेक्ट्रिक इंजन द्वारा एक हुक प्लेसमेंट
  • घ) आंवला, नजीबाबाद और बंथरा में पीओएल साइडिंग का विद्युतीकरण।
  • माधोगंज में लोडिंग/अनलोडिंग के लिए माल गोदाम का सुधार।
  • शाहजहांपुर में एनईआर के साथ नया इंटरचेंज प्वाइंट और जंक्शन स्टेशन
  • संडीला, उमरतली, शाहजहांपुर , मैंगलगंज, नेरी, जहांनीखेड़ा, रामपुर, लक्सर और शहजाद नगर में इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग (ईआई) चालू  की गयी।
  • दलपतपुर-कटघर और बिलपुर  टिसुआ के बीच आईबीएस का प्रावधान
  • फजलपुर में लूप लाइन चालू की गयी। उमरतली और चंदोक |
  • 8 समपारों पर एलसी गेट स्लाइडिंग बूम प्रदान किया गया।
  • 23.04.2021 को उन्नाव -बालामऊ-सीतापुर सिटी  सेक्शन के सभी स्टेशनों पर 15 KMPH PSR को हटा कर 50 KMPH PSR लगाया गया ।
  • पिलखुवा-डासना के बीच 50 KMPH के PSR को हटाया गया |
  • मुरादाबाद -चंदौसी सेक्शन की स्पीड 95 KMPH से बढ़ाकर 100 KMP. की गई है
  • बरेली- रामगंगा 3/11-12 के बीच की गति 15 किमी प्रति घंटे से बढ़ाकर 30 किमी प्रति घंटे की गयी
  • गजरौला  - मुअज्ज़मपुर सेक्शन की स्पीड 50 KMPH से बढ़ाकर 100 KMPH कर दी गई है
  • मुरादाबाद मंडल के एमबी और सीएच यार्ड को छोड़कर मुरादाबाद-चंदौसी सेक्शन  स्टेशनों पर टर्नआउट और पहली लूप लाइनों की गति को 15 किमी प्रति घंटे से बढ़ाकर 30 किमी प्रति घंटे किया गया |

यात्री सुविधाएं


>>यात्री सुविधाओं के कार्यों में उल्लेखनीय सुधार लाने के लिए पिछले वर्षों में निरंतर प्रयास किए गए हैं:

>>  08 एस्केलेटर (देहरादून 02, हरिद्वार 06) और 06 नं। मुरादाबाद डिवीजन पर लिफ्ट (देहरादून 02, हरिद्वार 02 और मुरादाबाद 02) स्थापित की गई हैं।

 >> ए1, ए और बी श्रेणी के सभी  स्टेशनों के प्लेटफार्म पर दिव्यांग-जन शौचालय प्रावधान किया गया है।

>> मंडल के सभी स्टेशनों पर न्यूनतम आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध है ।

>>  मंडल के विभिन्न स्टेशनों पर 45 दिव्यांगजन शौचालय उपलब्ध है

>>  कुम्भ मेला के संबंध में 6 फुट ओवर ब्रिज का काम, ऐथल, पथरी, ज्वालापुर, हरिद्वार, मोतीचूर और ऋषिकेश में पूरा  किया गया है ।

 >> हरिद्वार स्टेशन के अग्रभाग का सुधार हुआ है।

>> रुड़की और पथरी में प्लेटफार्म  की ऊंचाई बढ़ाई गई है।

>> लक्सर, ज्वालापुर, हरिद्वार, ऋषिकेश और रुड़की में सर्कुलेटिंग एरिया में सुधार हुआ है।

 >> ऋषिकेश, ऐथल, रायवाला, पथरी, इक्कड़, मोतीचूर में प्लेटफार्म सेल्टर का  प्रावधान किया गया है।

>> लक्सर  , ऋषिकेश , ऐथलरायवालापथरीइक्कड़ और मोतीचूर में पीप्लेटफार्म की सतह में सुधार किया गया |



मुरादाबाद मंडल में पर्यावरण और गृह व्यवस्था प्रबंधन (EnHMगतिविधियां:

            ·जल प्रबंधन:

मुरादाबाद मंडल के योग-नगरी ऋषिकेश डिपो में एक एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट (ईटीपी) स्थापित किया गया है, जहां पानी का पुनर्चक्रण सुनिश्चित किया जाता है और इसे ट्रेन की सफाई के लिए फिर से उपयोग किया जाता है जिससे पानी की अनावश्यक बर्बादी को रोका जा सके।

अमरोहा , हरदोई , मुरादावाद, देहरादून  , चंदौसी, रामपुर , हरिद्वार , रुड़की और हापुड़ स्टेशनों को जल प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण अधिनियम, 1974 के तहत  संचालित करने की सहमति प्राप्त कर ली गई है। 

रनिंग रूम मुरादाबाद में  वर्षा जल संचयन सेटअप उपलब्ध है |
______________________________________________________________________________________________________

·ठोस अपशिष्ट प्रबंधन ;

कचरे के पृथक्करण के लिए सभी स्टेशनों पर कलर कोडेड डस्टबिन उपलब्ध कराए गए हैं |

स्टेशनों पर उत्पन्न अपशिष्ट का उपचार राज्य निकायों द्वारा देहरादून, हरिद्वार में  किया जा रहा है।

ट्रेनों से एकत्र किए गए कचरे को बायो-डिग्रेडेबल और नॉन-बायो-डिग्रेडेबल कचरे में अलग किया जाता है। बायो-डिग्रेडेबल कचरे को हरिद्वार  सी एंड डब्ल्यू डिपो में खोदे गए कम्पोस्ट पिट में भेजा जाता है, जबकि गैर-बायो-डिग्रेडेबल कचरे को इसके लिए नामित नगर निगम डंप यार्ड में डंप किया जाता है।

सभी डिपो को ई-कचरा संग्रह के लिए पर्यावरण अनुकूल बैटरी चालित रिक्शा प्रदान किये  गये है।


देहरादून, हरिद्वार, रुड़की , नजीबाबाद, मुरादाबाद , रामपुर , बरेली, शाहजहांपुर, हरदोई , चंदौसी, अमरोहा और हापुड़ स्टेशनों पर कूड़ा-करकट रोकने और साफ-सफाई की निगरानी के लिए सीसीटीवी लगाए गए हैं। 

मुरादाबाद मंडल के हरिद्वार में एक बायो-टॉयलेट लैब स्थापित की गई है, जहां ट्रेन के डिब्बों में स्थापित बायो-टॉयलेट के उचित संचालन को सुनिश्चित करने के लिए बायो-टॉयलेट एफ्लुएंट परीक्षण किया जाता है, जो ई-नेचर के लिए एक आवश्यक घटक है।

शहरी सीमा में एप्रोच ट्रैक के लिए कूड़ा उठाने का काम मुरादाबाद और हापुड़ में किया जा रहा है और चंदौसी स्टेशन के लिए भी फंड आवंटित किया गया है।

विभिन्न स्टेशनों पर कूड़ा-कचरा रोकने पर जुर्माने का नोटिस दिया गया है |

ट्रैक पर खुले में शौच को रोकने के लिए टीमों का गठन किया गया है

सामग्री परिवहन के लिए डिपो में उपयोग किए जा रहे लिस्टर/प्लेटफॉर्म ट्रक भी बैटरी से संचालित होते हैं और ईंधन के उपयोग से बचकर प्रकृति के क्षरण को रोकते हैं।
______________________________________________________________________________________________________
          ·प्लास्टिक अपशिष्ट:

प्रत्येक स्टेशन अर्थात देहरादून हरिद्वारमुरादाबाद और बरेली पर एक प्लास्टिक बोतल क्रशिंग मशीन उपलब्ध कराई गई है और स्टेशन रुड़की ,नजीबाबादरामपुर  शाहजहांपुरहरदोई , चंदौसी, अमरोहा और हापुड़  के लिए  शीघ्र ही  निविदा जारी की जायेगी।

यात्रियों में जागरूकता बढ़ाने के लिए विभिन्न स्टेशनों पर  प्लास्टिक रहित  बैनर एवं नारो का उपयोग किया गया है |
______________________________________________________________________________________________________

·वायु प्रदुषण:

डीजी सेट एग्जॉस्ट पाइप की स्टैक ऊंचाई को SPCB मानदंडों के अनुसार बढ़ा दिया गया है।

डीजी सेट में उत्सर्जन नियंत्रण उपकरण लगाए गए हैं।

हापुड़  नजीबाबाद स्टेशन के लिए वायु संचालन (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम, 1981 की सहमति प्राप्त कर ली गई है। 

 देहरादून हरिद्वाररुड़की  नजीबाबादमुरादाबाद रामपुर बरेली शाहजहांपुर हरदोई चंदौसीअमरोहा  और हापुड़ स्टेशनों पर वायु (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम, 1981 के संचालन करने  के लिए सहमति प्राप्त कर ली गई है।  
______________________________________________________________________________________________________
         ·ऊर्जा:

ऊर्जा दक्षता ब्यूरो से 5 स्टार रेटिंग (जनवरी 2023 तक वैधता) डीआरएम कार्यालय और मंडल अस्पताल मुरादाबाद के लिए उपलब्ध है|

मुरादाबाद , बरेली चंदौसीदेहरादून हरिद्वारहरदोई , ऋषिकेश, शाहजहांपुर , मिलक, डोईवाला, हापुड़ , ज्वालापुर, रायवाला, रुड़की  , कांठ विभिन्न स्टेशनों पर स्थापना के तहत 1100KWH रूफ टॉप आधारित सौर ऊर्जा संयंत्रों की स्थापना की जा रही है। 
______________________________________________________________________________________________________
        · माल गोदाम 

मॉल गोदामों  में वायु और जल पर पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने हेतु  एवं सुविधाओं के मूल्यांकन के लिए समिति का गठन किया गया है |बरेली कैंट, रामपुर  , गढ मुक्तेश्वर, बिजनौर, रुड़की के मॉल गोदामों का आंकलन किया जा चूका है|
रोज़ा, मुरादाबाद और हरदोई में माल गोदाम के लिए जल (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम, 1974 और वायु (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम, 1981 के तहत संचालन की सहमति प्राप्त कर ली गई है।
______________________________________________________________________________________________________
       ·अन्य कार्य:

 12 स्टेशनों जिसमे ऐथल, हरिद्वार , मुरादाबाद , देहरादून , चंदौसी  शाहजहांपुर, बरेली, रामपुर , नजीबाबाद, हरिद्वार  ,रुड़की, हापुड़   में आईएसओ 14001:2015 (पर्यावरण प्रबंधन प्रणाली)उपलब्ध है ।

मुरादाबाद स्टेशन का बाह्य जल ऑडिट किया जा चुका है।

मं.रे.प्र. कार्यालय, मुरादाबाद की ग्रीन रेटिंग हेतु एजेंसी प्रतिनियुक्त कर दी गयी है तथा कार्य प्रक्रियाधीन है|

मं.रे.प्र. कार्यालय, मुरादाबाद  के लिए ऊर्जा उपयोग अनुप्रयोग की उप-मीटरिंग और 30 किलोवाट सौर संयंत्र की स्थापना की योजना बनाई गई है|

मुरादाबाद, बरेली, हरिद्वार, देहरादून स्टेशनों पर अपशिष्ट जल उपचार संयंत्र की योजना बनायीं  गई है |

10 रेलवे स्टेशनों और मंडल रेलवे अस्पताल/मुरादाबाद में ग्रीन-को( Green Co)  रेटिंग की योजना है|

मुरादाबाद , बरेली छावनी, रामपुर , गढ मुक्तेश्वर, रोज़ा, बिजनौर, हरदोई, रूड़की में माल गोदामों में वायु और जल पर पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने के लिए कार्य योजना बनाई गई है।

एनजीटी(NGT) कार्यों के लिए पीपीपी मॉडल पर विकास के लिए बरेली छावनी और गढ मुक्तेश्वर को चुना किया गया है।

पानी (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम, 1974 और वायु (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम, 1981 के तहत संचालित करने के लिए बरेली छावनी, बिजनौर, रूड़की में माल गोदाम के लिए आवेदन किया जाएगा|
______________________________________________________________________________________________________
पीपीपी मोड के तहत गुडशेड का विकास

मुरादाबाद मंडल ने तीन गुडशेड की पहचान की है। बरेली छावनी, गढ़मुक्तेश्वर एवं दलपतपुर को रेलवे बोर्ड की निजी भागीदारी नीति के पत्र क्रमांक. 2020/टीसी (एफएम)/14/08 दिनांक 14.10.2020।

 1.BRYC (बरेली छावनी)

BRYC एक ग्रुप ए गुड्स शेड है जो एमबी डिवीजन के बीई-एसपीएन सेक्शन में स्थित है। इसमें यातायात प्रबंधन के लिए उपलब्ध एक सामान्य रेल स्तर प्लेटफॉर्म के साथ दो पूर्ण रेक हैंडलिंग लाइनें हैं। गुड्स शेड में चौबीसों घंटे काम किया जाता है। यह सीमेंट और उर्वरक जैसी वस्तुओं के प्रति माह लगभग 26- 28 आवक रेक को संभालता है। हालांकि स्टेशन बाहरी यातायात के लिए खुला है लेकिन बाहरी यातायात की मात्रा नगण्य है। इस स्टेशन को पीपीपी मॉडल के जरिए विकास के लिए चुना गया है।

कार्य के दायरे में कंक्रीट वार्फ का विकास, पहुंच मार्ग की मरम्मत, लेबर शेड का प्रावधान, मर्चेंट रूम, सीजीएस कार्यालय की मरम्मत, श्रमिकों के लिए पानी और शौचालय की सुविधा के साथ-साथ गुडशेड की रोशनी शामिल है। इसमें एनजीटी की गाइडलाइंस के तहत प्लांटेशन और डस्ट स्क्रीनिंग वॉल जैसे सभी काम शामिल होंगे।

निविदा दो बार खोली गई अर्थात 10.09.21 और 22.12.21 को लेकिन कोई प्रस्ताव प्राप्त नहीं हुआ। एनआईटी तीसरी बार 01.02.2022 को प्रकाशित हुआ और 14.03.2022 को खुल रहा है।

2.जीएमएस (गढ़मुक्तेश्वर)

गढ़मुक्तेश्वर एक ग्रुप ए गुड्स शेड है जो प्रसिद्ध गढ़ घाट के पास एमबी-एचपीयू सेक्शन पर स्थित है। इसमें पूरी तरह से पक्की रेल स्तर के घाट के साथ एक पूर्ण रेक हैंडलिंग क्षमता लाइन है। माल शेड 6 से 24 घंटे के बीच काम कर रहा है। यह कोयला और गिट्टी जैसी वस्तुओं के प्रति माह लगभग 11-12 आवक रेक को संभालता है। जावक यातायात 1-2 रेक प्रति माह चीनी है। इस स्टेशन को पीपीपी मॉडल के माध्यम से विकास के लिए चुना गया है।

कार्यों के दायरे में मौजूदा घाट के 50 मीटर पैच की मरम्मत, राजमार्ग से जुड़ने के लिए जीजेडबी छोर पर लगभग 700 मीटर की एक पहुंच सड़क का निर्माण, जल निकासी, मर्चेंट रूम के साथ एक परिसर का निर्माण, सीजीएस कार्यालय और पानी के साथ लेबर शेड शामिल हैं। श्रमिकों के लिए शौचालय की सुविधा। प्रकाश के लिए 4 हाई मास्ट टावर लगाना। इसमें एनजीटी के दिशा-निर्देशों के तहत वृक्षारोपण, धूल स्क्रीनिंग दीवार, जल छिड़काव प्रणाली जैसे सभी कार्य शामिल होंगे।

25.10.21 को निविदा दी गई और कार्य प्रगति पर है, टीडीसी-जून-22

3.डीएलपी (दलपतपुर)

दलपतपुर मुरादाबाद के पास एक छोटा स्टेशन है जिसे काशीपुर जिले के सिडकुल क्षेत्र से नए यातायात को पकड़ने के लिए एक ग्रीनफील्ड परियोजना के रूप में विकसित करने के लिए चुना गया है और मुरादाबाद क्षेत्र के माल ग्राहकों की सुविधा के लिए एमबी के पास एक वैकल्पिक गुड्स शेड की तलाश में है। यह न केवल पारंपरिक यातायात पर कब्जा करेगा बल्कि इसमें कंटेनर यातायात को भी संभालने की सुविधा होगी।

मुख्यालय से एसबीडी प्राप्त होने के बाद एक ग्रीनफील्ड माल शेड को गति शक्ति टर्मिनल के रूप में विकसित किया जाना है।

4.बीएससी (बुलंदशहर)

बुलंदशहर मुरादाबाद मंडल में ग्रुप-II गुड्स शेड है। पीपीपी मॉडल के माध्यम से इसे पुनर्विकास करने की योजना है। वर्तमान में कार्य के दायरे और अनुमानों को अंतिम रूप दिया जा रहा है जिसके बाद एनआईटी को प्रभाग द्वारा प्रकाशित किया जाएगा।

एनआईटी की अपेक्षित तिथि: 08.02.2022

5.बीजेओ (बिजनौर)


बिजनौर मुरादाबाद मंडल में एक समूह- I गुड्स शेड है जो बिजनौर जिले में स्थित है और चीनी यातायात में बहुत अधिक गुंजाइश है। इसे पीपीपी मॉडल के माध्यम से पुनर्विकास करने की योजना है। वर्तमान में कार्य के दायरे और अनुमानों को अंतिम रूप दिया जा रहा है जिसके बाद एनआईटी विभाग द्वारा प्रकाशित किया जाएगा।

एनआईटी की अपेक्षित तिथि: 15.02.2022

ईएसपी को अंतिम रूप दिया जा रहा है।




Source : उत्तर रेलवे / भारतीय रेल पोर्टल CMS Team Last Reviewed : 12-05-2022  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.